जो काम करो उसमें मास्टर बन कर ही रुको

जो काम करो उसमें मास्टर बन कर ही रुको

1    2    वोजमाना बीत गया जब अनपढ़ कलाकार भी अपनी अदाकारी के दम पर फिल्मों में सितारे की तरह जाने जाते थे। अब बगैर पढ़े-लिखे कलाकार को अपनी पहचान बनाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन जैसा है। इसलिए युवाओं को समझ लेना चाहिए कि पढ़ाई पहले जरूरी है जिससे युवाओं को अपने कॅरियर में आगे बढ़ने के अच्छे अवसर मिल सकते हैं। वह लक्ष्य बनाकर अपने कार्य को पूरा करें। यह बात शनिवार को शो योर टेलेंट कार्यक्रम में शामिल होने मुम्बई से आए कलाकारों ने भास्कर से साझा की।

गीत सागर।

राघव तिवारी।

अंकित सारस्वत।

ठहरा हुआ तो पानी भी सड़ जाता है

मूलरूपसे आगरा निवासी अंकित सारस्वत ने बताया कि बचपन से ही उन्हें गाना गाने का शौक रहा। आज मुम्बई में उनका दाऊजी फिल्म एंड इंटरटेनमेंट नाम से प्रॉडक्शन हाउस है। लाइव म्यूजिक, म्यूजिक वीडियो, शॉर्ट फिल्म पर जी म्यूजिक एवं टिप्स के साथ मिलकर काफी कुछ किया है। तेरे दर पर सनम, है तू जी आदि गानों को स्वर दिया है। युवाओं को संदेश देते अंकित सारस्वत ने कहा कि जो भी काम करो उसमें मास्टर बनने तक रुको मत, ठहरा हुआ तो पानी भी सड़ जाता है।

ग्लैमर जिंदगी बनाता है तो बिगाड़ भी देता है

नौटंकीशाला, ड्रामेबाज जैसी कई मराठी फिल्मों में अपनी आवाज की धूम मचाने वाले बॉलीवुड सिंगर गीत सागर बचपन से ही गायकी के शौकीन रहे हैं। उन्होंने मराठी फिल्म चर्मदास चोर, श्यामराव, दिले मुश्किल में अपनी गायकी को बुलंद किया है। उनका मानना है कि अब गाना, बजाना, अदाकारी सब बिजनेस बन गया है। इसमें ग्लैमर जरूरी हो गया है। युवाओं को संदेश देते गीत सागर ने कहा कि ग्लैमर से बचे रहना, वरना जुड़े तो जिंदगी से फिसल जाओगे।

धैर्य बगैर नहीं बन सकते कलाकार

चारफिल्मों में नायक रह चुके राघव तिवारी मूलरूप से जयपुर के रहने वाले हैं। पिछले एक दशक से फिल्म लाइन से जुड़े हैं। आज मुम्बई में उनका थियेटर है। उन्होंने बताया फिल्म मेरी कॉम चलो दिल्ली एवं इंटरनेशनल फिल्म रेगिस्तान रणथंभौर में वे नायक की भूमिका में रहे। इसके अलावा टीवी सीरियल सावधान इंडिया क्राइम पेट्रोल में भी काम किया है। अब वे अपनी नई फिल्म कमेंट्स पर काम कर रहे हैं। युवाओं को संदेश देते राघव तिवारी ने कहा कि अच्छा कलाकार बनने के लिए धैर्य बेहद जरूरी है।

मुलाकात3

Related posts

Leave a Comment